केले के फायदे | Benefits of Banana in Hindi

केले के फायदे

केले के फायदे एवं परिचय।

केला उष्णकटिबंधीय देशों में उगने वाला एक पीले रंग का फल है जिसका सेवन करना लगभग विश्व के सभी लोग पसंद करते हैं। आधुनिक विज्ञान के अनुसार केले का पौधा मूसा जाती के परिवार में होने वाला एक प्रकार का बड़ा घासदार पौधा है जिसकी ऊंचाई ज़मीन से लगभग 2 से 8 मीटर तक होती है।

भारत के विभिन्न अंचलों में इस फल का विभिन्न नाम है। 

भारत के विभिन्न अंचलों में इस फल का विभिन्न नाम है। 

  • संस्कृत भाषा में रम्भा, कदली।
  • हिंदी भाषा में केला।
  • मराठी भाषा में केळा।
  • तमिल में कदली।
  • मलयालम में वला।
  • बंगला में कोला।
  • अंग्रेज़ी में बनाना।
  • इत्यादि

कच्चे केले को अंग्रेज़ी में प्लान्टेन (plantain) कहा जाता है। 

हरा केला या कच्चे केले को अग्रेज़ी में क्या कहते हैं?

कच्चे केले को अंग्रेज़ी में प्लान्टेन (plantain) कहा जाता है। 

आइए जानते हैं केले से जुड़ी कुछ कही अनकही बातें,

  • केले का पौधा कोई वृक्ष नही है बल्कि यह एक बड़ा सा तना हुआ परतवाला घासदार पौधा है।
  • केले के पौधे का पत्ता लगभग 3 मीटर तक लम्बा हो सकती है।

केले में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व।

  • एक पके हए केले में औसतन 75% पानी का भाग और शेष में अन्य पौष्टिक सामग्रियाँ मौजूद रहती है। कार्बोहायड्रेट लगभग 22%, फैट 0.30%, बाकी प्रतिशत में विटामिन, खनिज मौजूद है।
  • केले में थियामिन, रिवोफ्लाविन, नियासिन, बी5, बी6, फोलेट, विटामिन सी मौजूद है। बी6 30% मौजूद है।
  • खनिज पदार्थों में मैंगनीज (12%), मैग्नीशियम (8%), पोटासियम (8%), फ़ास्फ़रोस, आयरन, जिंक है।
  • यह फल में सोडियम न के बराबर है।
  • यह फल में कैल्शियम नहीं है। फिर भी इसमें मौजूद विटामिन कैल्शियम को अन्य खाद्य वस्तु से सोखने के लिए शरीर को तैयार कर देता है। इस तरह इसके सेवन से शरीर के हड्डियों को मजबूती मिलती है। 

जानें विश्व के किस देश में केले का उत्पादन सबसे अधिक होता है।

  • भारत देश केले के उत्पादन के लिए पूरे विश्व में अव्वल है।
  • केले के सबसे प्रचलित प्रजाति है मूसा अक्यूमिनता (Musa Acuminata) जिसे कैवेंडिश बनानास (cavendish bananas) कहा जाता है। 

अद्भुत है केले का पौधा, जानें कैसे।

  • पूरी दुनिया में यह एक ऐसा फल है जिसका पौधा, फूल, पत्ते, तना, तने के अंदर के भाग को पूरी तरह उपयोग में लाया जा सकता है।
  • हरा केला (कच्चा केला), केले का फूल(मोचा), तना के अंदर का भाग (थोर) से स्वादिष्ट भोजन व्यंजन तैयार की जाता है। 

केले का धार्मिक महत्व

  • भारत वर्ष में केला एवं केले के पौधे का धार्मिक तथा शुभ कार्य में उपयोग होने हेतु विशेष महत्व है। पूजा अर्चना में व्यवहार होने वाले पञ्च फलों में यह एक विशेष फल है।

केले के नियमित सेवन से स्वास्थ रहे स्वस्थ

  • केले के सेवन से हजम क्रिया एवं पाचन तंत्र को सहारा मिलता है। पेट को साफ रखने में सहायक है।
  • दांतों को मजबूती प्रदान करता है। मुँह के अंदर के स्वास्थ को स्वस्थ रखता है। मुँह में लाड़ को बनाने में सहायक है।
  • यह फल के सेवन से आंतो में फिसलन बनी रहती है जिससे मल में नमी बनाकर मुलायम रखता है एवं शरीर से मल के निकास में सहायक है।
  • शरीर में वजन बढ़ाने के लिए यह सहायक है। इस फल के नियमित सेवन से शरीर में मांसल भाग की वृद्धि होती है।
  • शरीर में रक्त निर्माण तथा रक्त के शोधन में सहायक है।
  • पीलिया (जॉन्डिस) बीमारी में यह फल का सेवन लाभकारी है।
  • यह फल के सेवन से त्वचा, केश को उज्ज्वलता प्राप्त होती है। आंखों के स्वास्थ को स्वस्थ रखता है।
  • एक 100 ग्राम केले के सेवन से लगभग 85 किलो कैलोरी प्राप्त होती है।

केले से बनते हैं यह व्यंजन

  • यह फल से तैयार होने वाले कुछ व्यंजनों के नाम है बनाना मिल्क शेक, मालपुआ, बनाना केक, बनाना फ्रिट्रेर्स, फ्रूट सलाद इत्यादि जो पके हुए केले से बनते हैं।

कच्चा केला से चिप्स और सब्ज़ी बनते  हैं।

FAQ

1. सुबह खाली पेट केला खाने से क्या फायदा?

Ans :- इसमें बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं। यह शरीर की भूख को मारता है और चर्बी को कम करता है, क्योंकि इसमें स्वस्थ फैट पाया जाता है जो हमारे शरीर में जमता नहीं है और वजन बढ़ाता है, लेकिन मोटापे को दूर भगाता है।

2.रोज कितने केले खाने चाहिए?

Ans :- हर दिन केला खाना फायदेमंद होता है। इनमें प्रचुर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। ये आपके पाचन तंत्र को सही करता है। रोज़ कम से कम दो केले का सेवन सुबह नाश्ते में करना उचित है।

3.रात में केला खाने से क्या होता है?

Ans :- साधारणतः रात में केले का सेवन किया जा सकता है पर कुछ विशेष बातों का ध्यान रखने से लाभ मिलता है। केले का गुण शित एवं कफवर्धक है, इसलिए ठंडी अथवा वर्ष के मौसम में यह फल को देर रात में सेवन करने से बचना चाहिए।
सर्दी-खांसी, अस्थमा, साइनस की दिक्कत में रात को केला नहीं खाना चाहिए।

4.भूखा पेट केला खाने से क्या होता है?

Ans: भूखा पेट केला खाने से अपच की बीमारी, वायु विकार, अम्ल विकार जैसी दिक्कत हो सकती है। कार्बोहायड्रेट की मात्रा में अधिकता हो सकती है।

5.केले में कौन सा विटामिन पाया जाता है?

Ans :- केले से न केवल एनर्जी मिलती है, बल्कि कई पोषक तत्व भी मिलते हैं। विटामिन-ए, विटामिन-बी और मैग्नीशियम मिलता है। इसके अलावा विटामिन-सी, पोटैशियम और विटामिन-बी6, थायमिन, राइबोफ्लेविन भी होता है। 

6.क्या बुखार में केला खाना चाहिए?

Ans :-बुखार में दस्त, उल्टी, पसीना आदि से राहत पाने के लिए केले का सेवन करना चाहिए।

7.सुबह सुबह दूध और केला खाने से क्या होता है?

Ans :- पाचन तंत्र- बनाना शेक में विटामिन सी, विटामिन बी-6,5,3 भरपूर मात्रा में मिलता है. इसके अलावा इसमें फाइबर भी काफी अच्छी मात्रा में होता है। यह पाचन तंत्र को काफी फायदा पहुंचाता है। बनाना शेक कब्ज और पेट के लिए काफी लाभकारी होता है।

8.केला खाने के कितनी देर बाद पानी पीना चाहिए?

Ans :–केला, चीकू, नाशपाती, सेब, अनानास, अनार इत्यादि कोई भी फल खाने के तुरंत बाद पानी का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि ज्यादातर फलों में शुगर कंटेंट होता है या साइट्रिक एसिड होता है। मीठे फल खाते ही पानी पीने से आपको अपच, खांसी या शुगर का स्तर बढ़ने की समस्या हो सकती है।

9.केला उत्पादन में प्रथम देश ।

Ans :- वर्तमान समय में केला उत्पादन में भारत अव्वल है। महाराष्ट्र प्रदेश में केले का व्यापार एवं खपत सबसे अधिक है।

10.केला का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Ans :- मूसा (Musa)।

Submit your review
1
2
3
4
5
Submit
     
Cancel

Create your own review
स्वादिष्ट रेसिपी
Average rating:  
 0 reviews

Leave a Reply

close
Scroll to Top