परवल से जुड़ी कुछ कही अनकही बातें | Benefits of Pointed Gourd in Hindi

परवल

परिचय

परवल एक भारतीय सब्ज़ी है जो भूमि पर रेंगनेवाले बेल वाले पौधे पर उगती है। यह खीरा के परिवार से ताल्लुक रखती  है एवं वनस्पति विज्ञान के अनुसार यह एक फल है। 

इसका गठन चार से छः इंच लंबा बेलनाकार, केंद्र में मोटा फूला हुआ, दोनों किनारें नुकीला होता है। इसके छिलके की परत घाड़े हरे रंग की होती है। जिस पर एक नुकीले किनारे से दूसरी नुकीले किनारे तक हल्के हल्के सफेद हरे रंग की लंबी धारी मौजूद रहती है। यह ग्रीष्म ऋतु में उगने वाली सब्ज़ी है जिसकी खेती आद्र जलवायु वाली अंचलों में की जाती है। नदी के तटीय क्षेत्रों में इसकी कृषि सबसे अधिक की जाती है। इसकी अधिकतर खेती भारत राज्यों के पूर्वीय प्रान्तों में कई जाती है। पश्चिम बंगाल, बिहार, ओड़ीसा, उत्तर प्रदेश में इसकी उपज सबसे अधिक है।

वानस्पतिक वैज्ञानिक नाम

वानस्पतिक नाम -ट्रिकोसैन्थीज डायोइका रॉक्सब (Trichosanthes dioica Roxb.) एवं समानार्थी नाम है Anguina dioica (Roxb.) Kuntze।

यहाँ Roxb. शब्द वनस्पति वैज्ञानिक विलियम रोसबुर्घ (William Roxburgh) के नाम को चिन्हित करता है जो सन अट्ठारवी शताब्दी में भारत देश में रहकर वनस्पति विज्ञान से जुड़े विस्तारित कार्य में लिप्त थें एवं उन्हें भारतीय वनस्पति विज्ञान का जनक भी कहा जाता है।  

विभिन्न भारतीय नाम

संस्कृत – कर्कशच्छद, पटोल

हिंदी- परबल, परवल

बंगला – पटोल

मराठी- परवल

गुजराती-पडवल

ओड़िया -पटल 

मलयालम- पटलम

कनाड़ा- पडवल

अंग्रेज़ी- पॉइंटेड गौर्ड (Pointed Gourd)

कृषि क्षेत्र

भारत में इसकी खेती प्रधानतः पूर्वीय प्रान्त में अधिक होती है जहाँ संतुलित गर्मी एवं नमी आबोहवा के साथ कृषि भूमि नदियों के तटीय क्षेत्र के नज़दीक उपलब्ध है। इसकी खेती के लिए खास मिट्टी वाली भूमि की आवश्यकता होती जो भारत के पूर्वीय प्रान्त में स्वत ही उपलब्ध है। पश्चिम बंगाल, बिहार, ओडिशा, उत्तर प्रदेश राज्यों में इसकी कृषि की जाती है।

पौष्टिक तत्त्व

यह सब्ज़ी में लगभग 80% पानी मौजूद है। शेष भागों में विटामिन, कार्बोहायड्रेट, खनिज मौजूद है। 

विटामिन ए, बी1, बी2, सी, मैग्नीशियम, कॉपर, पोटासियम इत्यादि मौजूद है।

ऊर्जा की मात्रा

यह सौ ग्राम सेवन करने से लगभग 20 किलो कैलोरी ऊर्जा प्राप्त हो सकती है।

सेवन से शरीर को लाभ।

इसके सेवन से शरीर को कई प्रकार का लाभ प्राप्त होता है जैसे,

  • इसके सेवन से वात, पित्त, कफ को संतुलित मात्रा में नियंत्रित रखने में सहायक है।
  • यह पित्तनाशक है इसलिए इसके सेवन से यकृत को मजबूती मिलती है। यकृत के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में सहायक है।
  • इसके सेवन से पाचन तंत्र एवं हजम क्रिया सुचारू ढंग से संचालित होती रहती है।
  • इसके सेवन से शरीर को शीतलता प्राप्त होती है जो गर्मी के मौसम में अति आवश्यक हो जाता है।
  • नियमित सेवन से यह खून को साफ रख कर फोड़े, फुसियों से बचने में कारगर है।
  • इसके नियमित सेवन से आंखों के स्वास्थ्य को मजबूती मिलती है।
  • पाचन क्रिया को संतुलित कर के पेट में अंदर जमे वसा को गलाने में सहायक है, जिस से शरीर के अतिरिक्त वजन को कम करना आसान हो जाता है।
  • मधुमेह एवं कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित व्यक्तियों के लिए इसका सेवन करना लाभजनक है।
  • यह रेचक भी है इसलिए इसके सेवन से कब्ज (constipation) जैसी दिक्कतों से छुटकारा मिल सकता है।
  • छाती में बसे कफ को गलाने में सहायक है।
  • दिल के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में सहायक है।
  • इसके सेवन से अरुचि, अपच, अम्लता, वायु विकार जैसी दिक्कतों से छुटकारा मिलता है।
  • इसमें मौजूद विटामिन ए, सी शरीर के त्वचा को उज्ज्वल रखने में सक्षम है।

कुछ सावधानियाँ

जैसे कि कोई भी खाद्य सामग्री को संतुलित मात्रा से अधिक सेवन करना ठीक नहीं इसलिए यह शर्त इस पर भी लागू होती है।

  • यह रेचक (purgative/ laxative) है इसलिए इसका अधिक सेवन करने पेट दस्त जैसी दिक्कतें आ सकती हैं।

रसोईघर में उपयोग

  • कई प्रकार के सब्ज़ी, मिष्ठान्न इससे तैयार किया जाता है। पटोल भाजा, पटोलेर दोरमा, सोरषे पटोल, पटोलर झोल कुछ लोकप्रिय व्यंजन हैं।

FAQ

Q. परवल का दूसरा नाम क्या है?

Ans:- संस्कृत – कर्कशच्छद, पटोल
हिंदी- परबल, परवल
बंगला – पटोल
मराठी- परवल
गुजराती-पडवल
ओड़िया -पटल 
मलयालम- पटलम
कनाड़ा- पडवल
अंग्रेज़ी- पॉइंटेड गौर्ड (Pointed Gourd).

Q. परवल खाने से क्या फायदा?

Ans:- इसमें मुख्यत पित्तनाशक गुण है जो यकृत के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखने में सहायक है। पीलिया की बीमारी में इसका सेवन लाभदायक है। यह रेचक है इसलिए इसके नियमित सेवन से कब्ज़ की तकलीफ से छुटकारा मिलता है। इसमें मौजूद विटामिन ए एवं विटामिन सी की मात्रा सबसे अधिक है जो आंखों के स्वास्थ्य, त्वचा को ठीक रखने में मदत करता है। हजम क्रिया तथा पाचन तंत्र को बढ़ावा देकर अम्ल, वायु विकार जैसी परेशानियों से शरीर को बचाकर रखता है। 

Q. परवल को मराठी मे क्या कहते है?

Ans:- परवल।

Q. परवल फल है या सब्जी?

Ans :- परवल एक फल है जिसका वानस्पतिक वैज्ञानिक नाम है ट्रिकोसैन्थीज डायोइका रॉक्सब (Trichosanthes dioica Roxb.)। यह खीरा एवं स्क्वाश प्रजाति के परिवार cucurbitaceae से ताल्लुक रखता है। साधारण स्तर पर इसे सब्ज़ी का दर्जा प्राप्त है।

Q. क्या नुकीला लौकी मधुमेह के लिए अच्छा है? 

Ans:- परवल को ही नुकीला लौकी भी कहा जाता है। इसमें विटामिन एवं खनिज उचित मात्रा में मौजूद है एवं इसका सेवन करने नियंत्रित मात्रा में ऊर्जा प्राप्त होती है। इसमें शर्करा का भाग बिल्कुल न्यूनतम है जिसके कारण यह एक आदर्श खाद्य है। मधुमेह से पीड़ित व्यक्तियों के लिए इसका सेवन करना लाभकारी है।

Submit your review
1
2
3
4
5
Submit
     
Cancel

Create your own review

स्वादिष्ट रेसिपी
Average rating:  
 0 reviews

Leave a Reply

Scroll to Top