मटन जैसा कटहल की सब्ज़ी रेसिपी | Kathal ki sabzi Recipe in Hindi

कटहल की सब्ज़ी

कटहल की सब्ज़ी देख कर तैयार करें यह स्वादिष्ट व्यंजन।

शाकाहारी भोजन में यह व्यंजन को मटन जैसा स्थान प्राप्त है। भारत के पूर्व और उत्तर भाग में यह व्यंजन अधिक प्रचलित है। पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड में इस सब्ज़ी का अत्यधिक सेवन किया जाता है। होली या  शादी के भोज में यह व्यंजन का होना अनिवार्य है।

मटन पकाने की शैली से इस व्यंजन को पकाया जाता है। जो लोग मटन से परहेज करते हैं वे यह शाकाहारी व्यंजन का सेवन करते हैं। बिहार-बंगाल प्रान्त में बकरे को पाठा कहा जाता है। कटहल का स्वाद बकरे के मटन जैसा होने के कारण इसका नाम गाछ पाठा पढ़ गया। यहां गाछ का अर्थ है पेड़ और पाठा का अर्थ है बकरा। इसलिए कटहल को गाछ का बकरा कहा जाता है।

यहाँ इस रेसिपी के माध्यम से यह व्यंजन तैयार करने की बिल्कुल सरल विधि बताई जा रही है।

निम्न में दिए हुए रेसिपी को अनुसरण करें:

व्यंजन विधि/ Cuisineभारतीय
भोजन चुनावशाकाहारी
व्यंजन कटहल की सब्ज़ी
सामग्री तैयार करने का समय15 Mins
पकाने का समय/ कुकिंग टाइम20 Mins
कुल समय35 mins
अंश6 व्यक्ति के लिए

सामग्री |  Ingredients 

कटहल (कटा हुआ)500 gm
आलू (चौकोर कटा हुआ)380 gm / 4 आलू
प्याज़ (बारीक कटा हुआ) 160 gm/ 3 प्याज़
टमाटर (बारीक काटा हुआ)150 gm/ 3 छोटा टमाटर
अदरक-लहसुन पेस्ट2 tablespoon
दालचीनी (1 इंच)4 sticks
लौंग   6 लौंग
हल्दी पाउडर1 teaspoon
जीरा पाउडर2 teaspoon
धनिया पाउडर  4 teaspoon
लाल मिर्च पेस्ट(साबुत लाल मिर्च उबालकर पीस लें)1 tablespoon
कश्मीरी मिर्ची पाउडर½ teaspoon
ईमली (4 टेबल स्पून पानी में भिगो कर रखें)10 gm
हरी मिर्च (बारीक कटी हुई) 2 हरा मिर्च
तेज पत्ता2 पत्ता
दालचीनीकाठी
गरम मसाला पाउडर1 teaspoon
नमकस्वाद अनुसार
सरसों तेल / अन्य तेल6 tablespoon / आवश्यकतानुसार

विधि:

Kathal ki sabzi Recipe Step 1
  • चोप्पिंग बोर्ड और चाकू पर तेल लगा दें।
  • किचन ग्लव्स हाथ में पहन लें।
  • कटहल को बीच से काटकर आधा कर दें।
  • अब गोल चक्के के आकार में कटहल को काट लें।
  • छिलके के परत को काट कर अलग कर दें।
Kathal ki sabzi Recipe Step 2
  • कटहल को लंबे आकार में काटें, फिर चौकोर कर  काट लें (चित्र को देखें)।
  • प्रेशर कुकर में पानी डालें। दो चुटकी नमक और एक तेज पत्ता डालें। पूर्ण आँच रखें।
  • पानी उबलने पर कटे हुए कटहल को प्रेशर कुकर में डालें।
Kathal ki sabzi Recipe Step 3
  • ढक्कन बंद करें। 1 विस्सल आने तक पका लें। आँच को बंद करें। भाप में 10 मिनट तक रहने दें।
  • अब प्रेशर कुकर ठंडा होने पर ढक्कन खोलकर कटहल टुकड़ों को निकाल कर एक जाली में रखें। पानी को निकल जाने दें। अलग रखें।
  • कटे हुए आलू में 1 चुटकी हल्दी, थोड़ा नमक मिलाएं।
Kathal ki sabzi Recipe Step 4
  • आँच पर फ्राइंग पैन रखें और 3 टेबल स्पून तेल डालें।
  • तेल गर्म होने पर आलू को तलें।
  • आलू को जल्दी पकाने के लिए फ्राइंग पैन में ढक्कन लगाएं।
  • आलू को भूरा कर तल लें। अलग बर्तन में निकाल कर रखें।
  • एक गहरे फ्राइंग पैन में 2 टेबल स्पून तेल डालें। गर्म करें।
  • तेजपत्ता, लौंग, दालचीनी को डालकर कुछ देर भूनें।
Kathal ki sabzi Recipe Step 5
  • कटा हुआ प्याज़ डालकर भूनें।
  • अदरक लहसुन पेस्ट डालकर भूनें।
  • काटा हुआ टमाटर डालकर भून लें।
  • लाल मिर्च पेस्ट डाल दें।
  • जब मिश्रण तेल छोड़ने लगे, तब समझना चाहिए मसाला पक गया है।
Kathal ki sabzi Recipe Step 6
  • भुना हुआ मिश्रण में उबला हुआ कटहल को डाल दें।
  • आलू और हरी मिर्च को डाल दें।
  • अब हल्दी पाउडर, जीरा पाउडर, धनिया पाउडर, कश्मीरी मिर्च पाउडर डाल दें। करछुल से मिश्रण को चलाकर कुछ देर तक भूनें।
  • फ्राइंग पैन में 2 कप पानी डालें। करछुल से मिश्रण को चलाकर मिला दें।
  • इमली पानी को डालकर मिला दें।
Kathal ki sabzi Recipe Step 7
  • स्वादानुसार नमक मिलाएं।
  • गरम मसाला पाउडर दाल दें।
  • फ्राइंग पैन को ढक दें और सब्ज़ी को 3 मिनट तक उबलने दें। आँच को मध्यम रखें।
  • अब स्वाद को परख लें। मसालेदार, थोड़ा तीखा होना चाहिए। आँच को बंद करें।
  • कटा हुआ धनिया पत्ता छिड़के।
  • व्यंजन तैयार है। 
  • गरमा गर्म परोसें रोटी, पराठा, कुलचा, चावल के साथ।

टिप्स:

  • कटहल के अंदर में चिपचिपा सफेद रंग का गोंद होता है। गोंद से बचने के लिए कटहल को काटते समय हथेली में अवश्य तेल लगाएं।
  • किचन ग्लव्स पहनने से उस पर भी तेल लगाएं। इस्तेमाल के बाद तुरंत धो लें।
  • यह व्यंजन को पसंद अनुसार बिल्कुल सूखा या पतला रसेदार तैयार किया जा सकता है।
  • सब्ज़ी को पकाते वक्त स्वाद का संतुलन पसंद अनुसार करें। तीखा और खट्टा स्वाद का संतुलन ठीक से करें।
  • सब्ज़ी में सदा गर्म पानी का उपयोग करें।
  • प्याज़, लहसुन का उपयोग न करने से यह सात्विक व्यंजन होगा।
  • प्याज़, लहसुन, अदरक, आलू का उपयोग न करने से जैन व्यंजन होगा।

close
Scroll to Top