आलू से जुड़ी हुई कुछ बातें | Potato ke Fayde in hindi

आलू चित्र 2

आलू को सब्ज़ियों का राजा कहा जा सकता है। विश्व भर में ऐसा कोई देश नहीं है जहाँ पर आलू न पाया जाता हो। इस सब्ज़ी के स्वाद के दीवाने हम सभी है। देसी आलू चोखा से ले कर फ्रेंच फ्राई, हम सबको पसंद है।

आइए जानते हैं आलू से जुड़ी हुई कुछ बातें;

  • ऐतिहासिक खोज से पता चलता है कि स्पेन देश पूरे विश्व को आलू से पहचान कराया।
  • स्पेनिश भाषा में आलू को पटाटा और मीठा आलू को बटाटा कहते है। ऐसा कहा जा सकता है कि पुर्तगाली लोग मुंबई (बॉम्बे) में आकर बटाटा शब्द को प्रचलित किया होगा।
  • आलू उत्पादन में भारत का नाम चीन और रूस के बाद तीसरे स्थान में है।
  • पूरे विश्व में आलू के कई तीन हज़ार से भी ज़्यादा प्रजातियां उपलब्ध है। जिनमें से अधिकतर संकर प्रजाति है। बीमारी से नष्ट होने से आलू को बचाने के लिए वैज्ञानिक तरीके से आलू के प्रकृति में बदलाव लाया जाता है। 
  • अन्य सभी सब्ज़ियों के अनुपात में आलू के सेवन से सबसे अधिक ऊर्जा प्राप्त होती है।
  • आलू में करीब 80% पानी और बाकी शेष प्रतिशत में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और बिल्कुल अल्प मात्रा में फैट मौजूद है। श्वेतसार यानी स्टार्च अधिक मात्रा में उपलब्ध है।
  • विटामिन बी 6 और विटामिन सी अधिक मात्रा में पाए जाते हैं।
  • आलू के छिलके को शहद के साथ चेहरे पे लगाने पर कील मुंहासों के दाग को निकालने में सहायक है।
  • आलू से उपलब्ध स्टार्च से सूप या अन्य खाद्य व्यंजनों को गाढ़ा किया जाता है।
  • आलू से बने हुए कुछ व्यंजन बहुत प्रचलित है जैसे, फ्रेंच फ्राइज, चिप्स, जीरा आलू, दम आलू, आलू चोखा, समोसा, वड़ा पाव, बर्गर के लिए आलू टिक्की।
  • कच्चा आलू का सेवन नहीं करनी चाहिए। श्वेतसार यानी स्टार्च को हमारा शरीर ठीक से हजम नहीं कर पाता है।
  • डाइटिंग करने वाले व्यक्ति को आलू का सेवन बहुत कम करना चाहिए। ध्यान रहे आलू अधिक ऊर्जा देने वाली सब्ज़ी है।
  • डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति को आलू का सेवन कम करना चाहिए। श्वेतसार यानी स्टार्च वाली सब्ज़ी इनके लिए नुकसान दायक है। अपने निजी चिकितशक की सलाह लें।
  • दार्शनिक तौर पर कहा जा सकता है कि आलू कहीं पर कम दाम में आकर दोस्त की तरह एक ज़रूरतमंद की भूख मिटाता है और फिर कहीं पर इस अधुनिक जगत में बर्गर के साथ मिलकर फैशन भी दिखाता है।
close
Scroll to Top