घर बैठे बनाएं स्वादिष्ट उत्तपम रेसिपी | Uttapam recipe in Hindi

उत्तपम चित्र 1

उत्तपम रेसिपी को देख कर सरलता से बनाएं नर्म मुलायम, स्पंज जैसा उत्तपम। 

उत्तपम को देसी पिज़्ज़ा भी कहा जा सकता है। पसंद अनुसार मनचाही टॉपिंग देकर उत्तपम को अधिक मनमोहक और स्वादिष्ट बनाया जा सकता है। प्याज़ और टमाटर का टॉपिंग के साथ शिमला मिर्च, मकई, जलेपनो, ओलिव, पनीर, चीज़ इत्यादि का उपयोग कर उत्तपम में विभिन्न परिवर्त्तन किया जा सकता है। चावल और उड़द दाल की बैटर तैयार रहने से यह व्यंजन को भोजन के वक्त बहुत ही अल्प समय में तैयार किया जा सकता है।

इस व्यंजन को तैयार करने के लिए चावल और उड़द दाल से बना कच्चा घोल या बैटर आजकल बाजार में उपलब्ध है। पर अब घोल के लिए भी बाजार जाने की ज़रूरत नहीं, बल्कि अब खुद ही घर में बनाएं। बैटर रेसिपी को देख कर कच्चा घोल तैयार करना बहुत सरल है। बैटर रेसिपी के लिए लिंक पे क्लिक करें।

यहाँ इस रेसिपी में बिल्कुल सरल विधि बताई जा रही है। रेसिपी को देख कर के घर में आसानी से बनाएं रेस्टोरेंट जैसा उत्तपम।

निम्न में दिए हुए रेसिपी को अनुसरण करें:

व्यंजन विधि/ Cuisineदक्षिण भारतीय / भारतीय
भोजन चुनावशाकाहारी
व्यंजन  नाम/ व्यंजनउत्तपम 
सात्विक आहार हाँ (प्याज़, लहसुन न मिलाएं) 
जैन भोजन हाँ ( प्याज़ और जड़ वाली सब्ज़ी उपयोग न करें)
सामग्री तैयार करने का समय5 mins
पकाने का समय/ कुकिंग टाइम30 mins

सामग्री |Ingredients 

बैटर / कच्चा घोल500 gm 
नमकस्वादानुसार
प्याज़ ( बारीक कटा हुआ)6 tablespoon
टमाटर  ( बारीक कटा हुआ)6 tablespoon
नमकस्वादानुसार
तेलआवश्यकता अनुसार

विधि:

Uttapam Recipe Step 1
  • तैयार किया हुआ बैटर / कच्चा घोल को एक गहरे बर्तन में रखें। नमकीन स्वाद को परख लें।
  • मध्यम आँच में तवा रखें। तवे के स्तर पर तेल लगा दें।
  • एक छोटी कटोरी में या डाबु में कच्चे घोल को लें। कटोरी से घोल को धीरे से तवे पर गोलाकार कर डालें।
  • अब ऊपर से प्याज़, टमाटर, हरी मिर्च डालें।
Uttapam Recipe Step 2
  • दोनों तरफ से पलटकर हल्का भूरा होने तक तलें।
  • उत्तपम को एक प्लेट में टिश्यू पेपर पर रखें। अत्यधिक तेल निकल जाने दें।
  • इस तरह एक एक का उत्तपम बना लें।
  • गरमा गर्म परोसें नारियल चटनी, सांभर के संग।

विधि:

  • घोल ठीक से फरमेंट होने पर उत्तपम स्पंजी, छिद्रपूर्ण होगा।
  • सात्विक व्यंजन में प्याज, लहसुन का इस्तेमाल न करें।
  • जैन व्यंजन में जड़ वाली सब्जियों का उपयोग न करें।
  • घोल में किण्वन (फर्मेंटेशन) की कमी होने पर रेगुलर एनो का प्रयोग करें। 1 kg घोल में 5 gm इनो का उपयोग करें। व्यंजन का परिणाम मुलायाम होगा।
  • टॉपिंग के लिए शिमला मिर्च, मशरूम, मकई, पनीर, चीज़, इत्यादि का उपयोग किया जा सकता है।
  • यह व्यंजन को नाश्ता या फिर कोई भी मुख्य भोजन में परोसा जा सकता है।
  • व्यंजन को खुले हवा में न रखें। 
  • डाइटिंग करने वाले व्यक्ति के लिए यह व्यंजन का सेवन उत्तम है।
  • बैटर तैयार करने के लिए बैटर रेसिपी को देखें।

close
Scroll to Top